पंजाब कांग्रेस का ब्राह्मण सम्मेलन, रामायण-महाभारत पर रिसर्च सेंटर समेत कई तोहफों का ऐलान

सीएम चरनजीत सिंह चन्नी ने पंजाबी यूनिवर्सिटी में दो करोड़ के वार्षिक अनुदान के साथ लॉर्ड पुरुषोत्तम चेयर स्थापित करने का ऐलान किया. चन्नी ने यहां भगवान पुरुषोत्तम तपोस्थल के अत्याधुनिक रिसर्च सेंटर की आधारशिला रखते हुए ये बातें कहीं.

चंडीगढ़: पंजाब विधानसभा चुनाव को लेकर कांग्रेस (Punjab Congress) ने ब्राह्मणों को रिझाने की कवायद शुरू कर दी है. कांग्रेस ने रविवार को कपूरथला जिले के फगवाड़ा में ब्राह्मण सम्मेलन (Brahman Sammelan) किया. कयास लगाए जा रहे हैं कि हिन्दू वोटबैंक (Hindu votebank) कैप्टन अमरिंदर सिंह और बीजेपी के गठबंधन की ओर रुख कर सकता है. पंजाब के मुख्यमंत्री चरनजीत सिंह चन्नी ने भी इस सम्मेलन में शिरकत की. उन्होंने कहा कि वो संस्कृत सीखने का प्रयास करेंगे. सीएम चन्नी ने महाभारत और श्रीमद भगवदगीता (Ramayana, Bhagvad Gita and Mahabharata) के लिए शोध केंद्र (research centre) खोलने का भी ऐलान किया.

इससे पहले हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर जापानी भाषा के पाठ्यक्रम में एडमिशन ले चुके हैं. चन्नी ने कहा कि खाटी में भगवान पुरुषोत्तम का तपोस्थान को पुरातात्विक केंद्र के तौर पर तब्दील किया जाएगा. सीएम चन्नी (Charanjit Singh Channi) ने कहा कि पंजाब के किसी भी मामले की जानकारी की बजाय केजरीवाल टांग अड़ाने की कोशिश करते हैं. उन्होंने पंजाबी यूनिवर्सिटी में दो करोड़ के वार्षिक अनुदान के साथ लॉर्ड पुरुषोत्तम चेयर स्थापित करने का ऐलान किया.

चन्नी ने यहां भगवान पुरुषोत्तम तपोस्थल के अत्याधुनिक रिसर्च सेंटर की आधारशिला रखते हुए ये बातें कहीं. उन्होंने कहा कि सदियों से ये महापुराण इंसानियत के लिए प्रेरणास्रोत रहे हैं. रिसर्च सेंटर उनकी प्रेरणास्पद बातों को सरल शब्दों में आम जनता तक पहुंचाएगा. चन्नी ने कहा कि पंजाब सरकार इस महात्वाकांक्षी परियोजना में शंकराचार्य जी का सहयोग लेने का भी प्रयास करेगी.

इसके लिए प्रशासन को 10 करोड़ रुपये का चेक पहले ही दिया जा चुका है. चन्नी ने कहा कि भगवान पुरुषोत्तम की मां माता रेणुका जी के तीर्थस्थान के विकास के लिए 75 लाख रुपये दिए जाएंगे. उन्होंने कहा कि राज्य में ब्राह्मण कल्याणकारी बोर्ड गठित किया जाएगा. चन्नी ने महाभारत का जिक्र करते हुए कहा कि जिस प्रकार पुत्र मोह के कारण कौरवों का सर्वनाश हो गया था, उसी तरह अकाली दल (Akali Dal) का हश्र होगा.